कसमार झारखण्ड पेटरवार बोकारो

कसमार : झारखंड राज्य खाद्य सुरक्षा आयोग की पहल पर धनिया मांझी को मिला राशन

फिंगरप्रिंट ना उठने के कारण 6 महीने आदिवासी वृद्ध दंपति को नहीं मिल पा रहा था लाभ।

कसमार (रंजन वर्मा) : बोकारो जिले के कसमार प्रखंड की अंतर्गत सोनपुरा पंचायत के बैलगढा टोला निवासी 80 वर्षीय वृद्ध दंपति विगत 6 माह से खाद्य सुरक्षा के तहत फिंगर प्रिंट नहीं उठने के कारण जन वितरण प्रणाली के दुकानदार के द्वारा राशन नहीं दिया जा रहा था। यह दंपति भुखमरी के कगार में थे। जिले की स्वयंसेवी संस्था सहयोगिनी के निदेशक गौतम सागर ने झारखंड राज्य खाद्य आयोग में इस मामले की शिकायत की। जिसके बाद दो दिनों के अंदर जिला आपूर्ति विभाग के द्वारा त्वरित कार्रवाई करते हुए आदिवासी दंपति को 40 केजी चावल ,आटा, तेल आलू सहित अन्य सामग्री 2 महीने के लिए उपलब्ध कराया गया। श्री सागर ने बताया कि सोनपुरा पंचायत के भेलगढा निवासी धनिया मांझी तथा जूटिया देवी नि संतान वृद्धि दंपति है। उनके परिवार में कोई भी नहीं है। पेंशन की राशि तथा खाद्य सुरक्षा के तहत मिलने वाले अनाज पर इनका जीवन निर्भर है। इस परिस्थिति में डीलर के द्वारा बार-बार फिंगरप्रिंट ना उठने के कारण 6 माह से राशन दिए बगैर लौटा दिया जा रहा था ।

इस मामले की शिकायत झारखंड राज्य खाद आयोग को की गई। इसके बाद झारखंड राज्य खाद्य आयोग के सदस्य सचिव संजय कुमार ने बोकारो के अपर समाहर्ता को इस मामले पर त्वरित कार्रवाई करने का आदेश दिया। जिसके बाद स्थानीय डीलर के द्वारा खाद्य सामग्री मुखिया सोनपुरा के माध्यम से उपलब्ध कराया गया। साथ ही भविष्य में लगातार इन्हें खाद्य सुरक्षा से मिलने वाले अनाज देने का आदेश दिया गया है। श्री सागर ने झारखंड राज्य खाद आयोग के इस त्वरित कार्रवाई की सराहना की है।

Related posts

प्लेसमेंट सेल, राँची विश्वविद्यालय ने बुधिया ग्रुप में 7 छात्रों के प्लेसमेंट चयन की सहर्ष घोषणा की

Nitesh Verma

150 युवाओं ने थामा झारखंड बिरसा सेना का दामन, पार्टी को मजबूत बनाने का लिया संकल्प

Nitesh Verma

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के अमृत महोत्सव का हुआ शुभारंभ

Nitesh Verma

Leave a Comment