Uncategorized

लोकसभा में संजय सेठ के सवाल पर केंद्रीय मंत्री एस पी बघेल का जवाब

आयुष्मान भारत योजना के तहत सूचीबद्ध हैं झारखंड के 721 अस्पताल: बघेल

कैंसर से संबंधित 549 उपचार प्रक्रिया इस योजना में है शामिल: बघेल

नितीश_मिश्र

राँची(खबर_आजतक): केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री एस पी सिंह बघेल ने सांसद संजय सेठ ने प्रश्न पर उत्तर देने के क्रम में कहा कि आयुष्मान भारत योजना के तहत झारखंड के 721 निजी और सरकारी अस्पताल सूचीबद्ध किए गए हैं, जहाँ इस क्षेत्र के नागरिकों को विभिन्न प्रकार की स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया कराई जा रही है। इस योजना का उद्देश्य देश की सबसे निचली 40% आबादी वाले 12 करोड़ परिवारों के 55 करोड़ व्यक्तियों को उपचार उपलब्ध कराना है। इसके लिए प्रति परिवार ₹5 लाख का स्वास्थ्य बीमा प्रदान किया जाता है। अब तक 15.5 करोड़ परिवारों के लिए लाभार्थी आधार का विस्तार किया गया है। लोकसभा में अतारांकित प्रश्नकाल के दौरान सांसद संजय सेठ ने प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना के झारखंड में क्रियान्वयन सहित निजी अस्पतालों को सूचीबद्ध करने से संबंधित सवाल पूछा था। संसद में विशिष्ट अस्पतालों में होने वाले रोगों के उपचार की जानकारी भी केंद्रीय मंत्री से माँगी थी। संसद नहीं अभी जानना चाहा था कि इस योजना के तहत सूचीबद्ध होने के लिए क्या प्रक्रिया है ?

इस सवाल के जवाब में केंद्रीय राज्य मंत्री एस पी बघेल ने सदन में संसद को लिखित रुप से बताया कि आयुष्मान भारत जन आरोग्य योजना के अंतर्गत इस परियोजना का संचालन किया जा रहा है। आयुष्मान भारत योजना के तहत अस्पतालों को सूचीबद्ध करने की जिम्मेदारी राज्य की स्वास्थ्य एजेंसियों को सौंप गई है। जो भी इच्छुक निजी अस्पताल हैं निर्धारित मानकों को पूरा करने के बाद इसमें शामिल हो सकते हैं।

केंद्रीय राज्य मंत्री एस पी बघेल ने यह भी बताया कि विगत 6 वित्तीय वर्ष में इस परियोजना के लिए बड़ी राशि जारी की गई है। राज्य को उनके उपयोग प्रयाण प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने के बाद ही आगे की राशि जारी की जाती है। इसके तहत वित्तीय वर्ष 2018-19 में 1849 करोड़, 19-20 में 2992 करोड़, 20-21 में 2544 करोड़, 21-22 में 2940 करोड़, 22-23 में 6048 करोड़ और 23-24 में अट्ठारह सौ ₹55 करोड़ की राशि का उपयोग अब तक हुआ है।

केंद्रीय मंत्री एस पी बघेल ने सदन में यह भी बताया कि इस योजना के तहत सूचीबद्ध कोई भी अस्पताल यदि लाभार्थियों को इलाज से इनकार करते हैं तो इसके परिणाम स्वरुप दंडात्मक कार्रवाई का भी प्रावधान किया गया है। उन्हें इस सूची से बाहर भी निकाला जा सकता है। सूचीबद्ध अस्पताल द्वारा उपचार से इनकार करने के मामले में लाभार्थी केंद्रीय शिकायत निवारण प्रबंधन प्रणाली पर शिकायतें दर्ज कर सकते हैं। राष्ट्रीय हेल्पलाइन नंबर 14555 पर ऐसी शिकायतों का त्वरित समाधान किया जाता है।

केंद्रीय राज्य मंत्री एस पी बघेल ने बताया कि कैंसर, मधुमेह जैसे रोग सहित अन्य गंभीर व असाध्य रोगों के कुल 1949 प्रक्रियाओं के अनुरुप इसके तहत उपचार प्रदान किया जाता है। इस योजना के अंतर्गत त्वचा रोगों से संबंधित 26 प्रक्रियाएँ और कैंसर से संबंधित 549 प्रक्रियाएं शामिल हैं। इसके अलावे यह सुनिश्चित करने के लिए एक निर्दिष्ट पैकेज का प्रावधान है कि पात्र लाभार्थी ऐसी प्रक्रियाओं के लिए उपचार का लाभ उठा सकें।

इस दौरान संजय सेठ के सवाल के जवाब में केंद्रीय मंत्री एस पी बघेल ने बताया कि झारखंड में 441 निजी अस्पताल और 280 सरकारी अस्पताल इस योजना के तहत सूचीबद्ध हैं जिसमें राँची के 101 निजी अस्पताल और 32 निजी अस्पताल सरकारी अस्पताल सूचीबद्ध किए गए हैं।

Related posts

नगर निकाय चुनाव को लेकर राज्य सरकार गंभीर नहीं : मेयर

Nitesh Verma

समस्‍त देश एवं प्रदेश वासियों को देश के गौरव एवं अभिमान के रा‍ष्‍ट्रीय पर्व 74वें #गणतंत्र_दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं।
आइये, इस राष्‍ट्रीय पर्व पर हम सभी मिलकर अपने राष्‍ट्र की सेवा, एकता और अखण्‍डता की रक्षा करने के लिए सदैव तत्‍पर रहने का संकल्‍प करें।

Nitesh Verma

उज्ज्वल प्रकाश तिवारी ने निशक्कता आयुक्त को किया पत्राचार, कहा ‐ राज्य के सभी व्यापारिक प्रतिष्ठानों में दिव्यांग बच्चे- बच्चियों हेतू रेम्प की सुविधा उपलब्ध कराई जाए

Nitesh Verma

Leave a Comment