झारखण्ड

वर्षा नहीं होने से किसान है काफ़ी चिंतित सुखाड होने क़ि आशंका प्रबल

रिपोर्ट : रंजन वर्मा

कसमार (ख़बर आजतक) : कसमार प्रखंड के किसान वर्षा नहीं होने से काफी चिंतित है । दुखी होना वाजिब है, क्यों कि आषाढ़ महीना चल रहा है और इस वक्त धान फसल के लिए खेत तैयार करने का समय होता है। कहीं कहीं तो रोपाई भी प्रारंभ हो जाया करती है, पर इस वर्ष की परिस्थिति कुछ विपरीत ही नजर आ रही है।

एक तो झारखंड में मॉनसून देरी से पहुंचा। चलो देर से ही सही पर मॉनसून बरसे तो सही, इसके कमजोर पड़ जाने से समुचित वर्षा नहीं हो रही है। देश के आधे से अधिक राज्य अति वृष्टि के कारण बाढ़ के दुष्परिणाम झेलने को विवश हैं, पर झारखंड की प्यास अब तक नहीं बुझ पाई है। तालाब कुएं सूखे के सूखे पड़े हुए हैं, साथ ही भूमिगत जल स्तर में कोई बढ़ोतरी नहीं होने से बोरिंग से भी जल मिलना कठिन हो रहा है। इधर कसमार प्रखंड पर नजर डालें तो एक भी वर्षा जोरदार नहीं हुई है। किसान नकुल महतो, हीरालाल महतो, सुधाकर महतो, राजेंद्र महतो, अनिल महतो, कैलाश महतो, फ़लाली महतो, अशोक कुमार महतो, बीरबल महतो, सुभाष महतो, फूलचंद महतो, निमाय चंद्र वर्मा कैलाश महतो सरयू महतो घूमन महतो चन्द्ररू महतो सरदु महतो कैलाश महतो सृष्टि घासी सूबोध घासी,अगनू रजवार विजय राजवार संतोष राजभर मनीष कुमार जगदीश प्रजापति शंकर प्रजापति चुनु महतो बीरबल महतो चमन महतो उमा करमाली दूहुमा करमाली इत्यादि ने कहा खेत में धान के बिचड़ा डाले लगभग 25 दिन हो गए हैं, अधिकतर हाइब्रिड धान अभी डाले जाते हैं और इस धान से तैयार बिचड़े अधिक से अधिक एक माह तक खेत में बोने पड़ते हैं, तभी धान की पैदावार अच्छी होती है। परंतु पानी की कमी से न तो बिचड़े तैयार हुए ना रोपाई के लिए खेत। किसानो द्वारा बताए इस बात से पता चलता है कि इस बार धना की फसल के लिए समय निकलता जा रहा है। यही रवैया और कुछ दिन रहा तो क्षेत्र में सुखा पड़ना निश्चित है उधर सिचाई कि पूर्ण व्यवस्था नहीं होने के कारण कसमार प्रखंड के किसान काफ़ी चिंतित में है जबकि क़ृषि प्रधान प्रखंड होने के के बावजूद भी यहाँ के किसानों को मानसून पर ही निर्भर रहना पड़ता है उचित सिंचाई व्यवस्था नहीं होने के चलते ही किसान चिंतित है asamar प्रखंड में कुछ नदियों को भी चैक ड़ेम बना लेकिन ठेकेदारी प्रथा और अधिकारी के मनमानी से चैक ड़ेम कामयाबी हासिल नहीं हो पाया जबकि अरबो रुपये पानी के व्यवस्था के लिए खर्च किया गया लेकिन सारा पैसा पानी में बह गया

Related posts

सत्यम क्रिकेट क्लब स्वांग ने देश के जवानों के साथ रक्षाबंधन किया।

Nitesh Verma

लेखक मनोज कुमार कपरदार की पुस्तक पाठ्यक्रम में शामिल

Nitesh Verma

राँची विश्‍वविद्यालय का जगन्नाथ कॉलेज एक मॉडल के रुप में दिखेगा : डॉ अहमद

Nitesh Verma

Leave a Comment