झारखण्ड राँची राजनीति

साहेबगंज से राँची तक फोरलेन एक्सप्रेस हाइवे निर्माण की माँग।

राजमहल विधायक अनन्त ओझा ने विधानसभा मानसून सत्र के अंतिम दिन गैर सरकारी संकल्प के माध्यम से सरकार से साहेबगंज से राँची तक एरियल सर्वे कराकर फोरेलन एक्सप्रेस हाइवे निर्माण की माँग किया।

नितीश_मिश्र

राँची/साहेबगंज(खबर_आजतक): राजमहल विधायक अनन्त ओझा ने विधानसभा मानसून सत्र के अंतिम दिन गैर सरकारी संकल्प के माध्यम से साहेबगंज जिला मुख्यालय से राज्य मुख्यालय राँची तक एरियल सर्वे कराकर फोरेलन एक्सप्रेस हाइवे निर्माण की माँग किया। उन्होंने ने सरकार से प्रश्न करते हुए कहा कि साहेबगंज मुख्यालय, राज्य मुख्यालय राँची से लगभग पांच सौ बीस किलोमीटर की दूरस्थ सुदूरवर्ती क्षेत्र में अवस्थित है, जो दो सीमावर्ती राज्य बिहार एवं प० बंगाल के मध्य क्षेत्र में पड़ता है। जिला मुख्यालय से राज्य मुख्यालय के लिए एक्सप्रेस हाइवे का निर्माण कराना अत्यंत आवश्यक हैं साथ ही साहेबगंज (झारखंड)-मनीहारी (कटिहार, बिहार) के मध्य गंगा पुल निर्माण तथा राज्य के एकमात्र जिला साहेबगंज में स्थापित बंदरगाह के निमित्त भी यह फोरलेन एक्सप्रेस हाइवे महत्वपूर्ण होगा। इस राज्य के लिए विशिष्ट रुप से गंगा पुल व बंदरगाह पूर्वोत्तर का प्रवेश द्वारा बनेगा। उन्होंने ने माँग किया कि साहेबगंज से रॉची तक सुगम व त्वरित आवागमन हेतू एरियल सर्वे कराकर फोरलेन एक्सप्रेस हाइवे की निर्माण कराया जाए। इस दिशा में मेरे द्वारा पहले भी केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के पास ज्ञापन दिया गया हैं। इस दिशा में राज्य सरकार की ओर से भी पहल जल्द हो इसके लिए सदन में मेरे द्वारा इन माँगों को रखा गया हैं।

राजमहल विधायक अनन्त ओझा के सवाल पर राज्य सरकार के प्रभारी मंत्री बादल पत्रलेख ने उत्तर देते हुए कहा कि इस दिशा में राज्य सरकार उत्तर देते हुए कहा कि राज्य सरकार द्वारा साहेबगंज-से राँची तक ग्रीन फील्ड एक्सप्रेसवे हाइवे निर्माण की दिशा में पहल की गई हैं और नीति आयोग के बैठक में इस एक्सप्रेसवे का निर्माण हेतू पहल की गयी हैं।

राजमहल विधायक अनन्त ओझा ने प्रभारी मंत्री के संतुष्ठ नही हुए हैं। उन्होंने कहा कि सागर माला परियोजना के तहत साहेबगंज मल्टी मॉडल बन्दरगाह से धामरा पोर्ट (उड़ीसा )तक सैद्धान्तिक सहमति पूर्ववर्ती रघुबर दास सरकार में बन गयी थी मगर उसका गति भी धीरे-धीरे रुकी पड़ी हैं। उहोंने कहा कि हमलोगों को इस लिए भी जरुरत पड़ता हैं क्योंकि साहेबगंज जिला राज्य के साथ-साथ सन्थाल परगना का भी सबसे से सुदूरवर्ती जिला साहेबगंज हैं। साहेबगंज जिला के विकास के बिना राज्य के विकास का बात करना बेईमानी हैं। राष्ट्रीय औसत के बात से हिसाब करे तो झारखंड एनएचएआई के विस्तार से आज भी पीछे हैं। उन्होंने ने माँग किया कि आगे जब भी नीति आयोग की बैठक हो या पूर्वी क्षेत्रीय विकास परिषद की बैठक हो उस में पूरी प्रथमिकता से साहेबगंज जिला मुख्यालय से राज्य मुख्यालय रांची तक फोरलेन एक्सप्रेसवे हाइवे निर्माण की बात हो जिस से राज्य के सबसे से सुदूरवर्ती जिला साहेबगंज के विकास के साथ-साथ राज्य का भी विकास का द्वारा खुले। जिस पर प्रभारी मंत्री ने राजमहल विधायक को भरोसा दिलाया कि साहेबगंज से राँची तक फोरलेन एक्सप्रेसवे का निर्माण के लिए राज्य सरकार द्वारा गंभीरता से पहल की जाएगी।

Related posts

राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधियों की उपस्थिति में उपायुक्त ने किया ईवीएम वेयर हाउस का निरीक्षण

Nitesh Verma

किकबॉक्सिंग में पर्चा लहरा रहे झारखंड के खिलाड़ी

Nitesh Verma

बोड़ेया में कन्या उच्च विद्यालय स्कूल प्रबंधन समिति की बैठक संपन्न, बोली पूर्व शिक्षा मंत्री गीताश्री उराँव ‐ मैं विद्यालय संचालन में हमेशा सहयोग करुँगी

Nitesh Verma

Leave a Comment