झारखण्ड राँची

सीएमपीडीआई ने पेटेंट के क्षेत्र में एक और उपलब्धि जोड़ी

नितीश_मिश्र

राँची(खबर_आजतक): सीएमपीडीआई, ब्लास्टिंग सेल, रांची और आईआईटी-खड़गपुर को पेटेंट कार्यालय, भारत सरकार ने ‘‘विभिन्न प्रकार के विस्फोटकों और इनीसिएटर्स के विस्फोट के वेग और एसेसरी उत्पाद के स्कैटरिंग/विलंब के समय को मापने के लिए एक बेहतर और अत्यधिक किफायती उपकरण’’ के आविष्कार एवं उसके लिए विधि के लिए पेटेंट प्रमाण-पत्र जारी किया। यह पेटेंट दाखिल करने की तिथि 23.09.2013 के 10 वर्षों के उपरांत 13.12.2023 को हासिल हुआ जो कि पेटेंट दाखिल करने की तिथि से 20 वर्षों के लिए प्रदान किया गया है। इस उपकरण का उपयोग करके विस्फोट के वेग का सटीक वैल्यू प्राप्त किया जा सकता है।

यह उपकरण और विधि किसी दिए गए भू-खनन स्थितियों के लिए विस्फोट अनुकूलन प्राप्त करने और बड़े पैमाने पर निश्चितता के साथ विस्फोटों को डिजाइन करने में मददगार होगी। सीएमपीडीआई के तत्कालीन मुख्य प्रबंधक (माइनिंग) एस सी कर बतौर परियोजना समन्वयक एवं तत्कालीन वरीय प्रबंधक (माइनिंग) डॉ एके झा बतौर प्रोजेक्ट लीडर पेटेंट के लिए आवेदन दाखिल करने के समय अपनी भूमिका निभायी। इस परियोजना में सीएमपीडीआई के ब्लास्टिंग सेल प्रमुख कार्यान्वयन एजेंसी (पीआईए) थी और डॉ बी देब के नेतृत्व में आईआईटी-खड़गपुर उप-कार्यान्वयन एजेंसी थी।

विस्फोटकों और सहायक उपकरणों की गुणवत्ता विस्फोटकों और और सहायक उत्पादों के विस्फोट के बाद के प्रदर्शन को सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। ब्लास्टिंग के बाद सब-सिस्टम उपयोग यथा लोडिंग, ढुलाई और परिवहन पर विचार करते हुए वर्तमान खदान से ‘‘मिल अवधारणा’’ के तहत उत्पादन की कुल लागत को कम करने के लिए ड्रिलिंग, ब्लास्टिंग और आरंभिक पैटर्न के लिए विश्वसनीय रूप से उच्च गुणवत्ता वाले विस्फोटक और सहायक उत्पादों का उपयोग करना प्रासंगिक है। विस्फोटकों और सहायक उपकरणों की गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए स्वदेशी उपकरण के विकास से ब्लास्ट परफारमेंस के टेक्नो-इकोनामिक्स में सुधार होगा और समग्र माइन इकोनामिक्स में सुधार होगा।

वर्तमान परिदृश्य में कोयले की बढ़ती माँग को देखते हुए विस्फोटकों और सहायक उपकरण के प्रदर्शन का पता लगाने के लिए स्वदेशी उपकरण के विकास से विश्वसनीयता, प्रभावशीलता और विस्फोट प्रदर्शन की दक्षता के मामले में समग्र खान अर्थशास्त्र में परिणाम मिलेगा जिससे सीआईएल और समस्त कोयला क्षेत्र को भी लाभ होगा।

इससे पूर्व सीएमपीडीआई को ‘‘फ्यूजिटिव डस्ट के उत्पादन और संचरण को नियंत्रण करने के लिए एक प्रणाली और विधि’’ विकसित करने के लिए अभिनव कार्य के लिए दिसम्बर, 2022 में अपना पहला पेटेंट हासिल किया था। पेटेंट सीएमपीडीआई की तकनीकी क्षमता का प्रमाण है।

Related posts

सीसीएल में मनाया गया राष्ट्रीय एकता दिवस

Nitesh Verma

आदित्य विक्रम जयसवाल के नेतृत्व में लगाया गया निःशुल्क मेगा हेल्थ कैंप, 265 मरीजों ने कराया हेल्थ चेकअप

Nitesh Verma

16 फरवरी के देशव्यापी हड़ताल को झारखंड में व्यापक बनाने की तैयारी, ये प्रमुख पार्टियों का मिल रहा समर्थन

Nitesh Verma

Leave a Comment