झारखण्ड राँची राजनीति

जल की समस्या वैश्विक समस्या है, सभी मिलकर करें समाधान : मिथिलेश ठाकुर

मिथिलेश ठाकुर ने किया रमकंडा से जल संरक्षण महाअभियान का शुभारंभ

नितीश_मिश्र

राँची/गढ़वा(खबर_आजतक): गढ़वा जिले के रमकंडा प्रखंड अंतर्गत चेटे पंचायत मुख्यालय में जनसंवाद एवं जल संरक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन गढ़वा विधायक झारखंड सरकार के पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री मिथिलेश कुमार ठाकुर, डीसी शेखर जमुआर, एसी पंकज कुमार सिंह, डीआरडीए निदेशक दिनेश प्रसाद सुरीन, डीएफओ साउथ शशी कुमार, प्रखंड प्रमुख सुरजी देवी, बीडीओ पुष्कर सिंह मुंडा, मुखिया कामेश कोरवा आदि ने संयुक्त रुप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया। इस दौरान मंत्री ने चेटे पंचायत परिसर में पौधरोपण भी किया।

इस मौके पर मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने कहा कि पेयजल की समस्या एक वैश्विक समस्या है। उन्होंने कहा कि इस समस्या का समाधान यदि ससमय हम सभी मिलकर नहीं करते हैं तो भविष्य में स्थिति और भी भयावह हो जाएगी। इस समस्या की गंभीरता को समझते हुए पौधरोपण व जल संग्रहण अति आवश्यक है। उन्होंने इस समस्या को देखते हुए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन एवं गढ़वा उपायुक्त को पत्र लिखकर बहुतायत संख्या में पौधरोपण के कार्य किए जाने की आवश्यकता बताया है। इस दौरान मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने कहा कि पौधरोपण व जल संग्रहण जैसे कार्य से पेयजल की समस्या से न सिर्फ वर्तमान में निजात पाया जा सकता है, बल्कि भविष्य की पीढ़ियों के लिए भी अति महत्वपूर्ण है। इस दौरान आयोजित जन संवाद कार्यक्रम के दौरान राशन, पेंशन, सड़क निर्माण, पुल निर्माण सहित अन्य समस्याओं को ग्रामीणों ने के समक्ष रखा।

इस दौरान मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने योग्य व्यक्ति जिन्हें सरकारी योजनाओं से आच्छादित नहीं किया गया है अथवा किसी कारणवश छूट गए हों, वैसे व्यक्तियों को तत्काल लाभान्वित करने का निर्देश संबंधित पदाधिकारियों को दिया। जबकि कुछ मामलों में आ रही है त्रुटि को तत्काल निष्पादित करते हुए समस्या का निदान करने का भी संबंधित पदाधिकारियों को निर्देश दिया।

इस दौरान उपायुक्त शेखर जमुआर ने कहा कि इस कार्यक्रम के दौरान सम्पूर्ण जिला में जल संग्रहण की योजना सॉकपीट, वर्मी कम्पोस्ट, रेन वाटर हार्वेस्टिंग, पंचायत भवन में पौधरोपण आदि के साथ-साथ बिरसा हरित ग्राम योजना के तहत वृक्षारोपण की योजना वृहत पैमाने पर प्रारम्भ किया जा रहा है। साथ ही नई योजनाओं की स्वीकृति प्रदान की जा रही है। उन्होंने बताया कि बिरसा हरित ग्राम योजना के तहत जिले के 142 पंचायत में 650 एकड़ भूमि में डिग्गिंग करके वृक्षारोपण का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि आज के कार्यक्रम के जरिए न सिर्फ वृक्षारोपण करना बल्कि जल संग्रहण के सभी उपाय भी किए जा रहे हैं। उन्हांने कहा कि जल संरक्षण के लिए सभी आंगनबाड़ी केंद्र, पीएचसी, सभी विद्यालय में भी पौधरोपण करने के लिए संबंधित विभाग के पदाधिकारी को निर्देश दिया गया है। उपायुक्त ने आम लोगो से अपील करते हुए कहा कि सरकारी परिसर में लगाये गये पौधा को बचाने में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें। रंका एसडीओ राम नारायण सिंह ने भी विचार व्यक्त किया।

3581 नई योजनाओं की मिली स्वीकृति

इस कार्यक्रम के माध्यम से नई योजनाओं की स्वीकृति बिरसा हरित ग्राम योजना, रेन वाटर हार्वेस्टिंग, वर्मी कम्पोस्ट, सोखा गड्ढा एवं पौधरोपण आदि की कुल 3581 योजनाओं को जिले के विभिन्न प्रखंडों के लिए स्वीकृति दी गई। जिसमें बरडीहा प्रखंड में बिरसा हरित ग्राम योजना, रेन वाटर हार्वेस्टिंग, वर्मी कंपोस्ट, सोखा गड्ढा एवं वृक्षारोपण के अंतर्गत कुल 126 योजनाओं की स्वीकृति दी गई। जबकि बड़गड़ प्रखंड के लिए 60, भंडरिया के लिए 128, भवनाथपुर के लिए 276, विशुनपुरा के लिए 67, चिनिया के लिए 239, डंडा के लिए 30, डंडई के लिए 302, धुरकी के लिए 89, गढ़वा के लिए 374, कांडी के लिए 94, केतार के लिए 223, खरौंधी 109, मझिआंव 354, मेराल 368, नगर उंटारी 107, रमकंडा 209, रमना 87, रंका 262 तथा सगमा प्रखंड के लिए 77 योजनाओं की स्वीकृति प्रदान की गई। इसके अतिरिक्त जल संचयन की विभिन्न योजना के तहत लगभग 2500 योजनाओ की शुरुआत की गई।

इस दौरान मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने विभिन्न योजनाओं से संबंधित रमकंडा प्रखंड के विभिन्न गांव गोबरदाहा, बलीगढ़, हरहे, सुली, दाहो, सबाने, बरवा, नावाडीह, मंगराही, रमकंडा, पटसर, शिशवा एवं चेटे आदि के लाभुकों के बीच परिसंपत्तियों का वितरण किया।

इस मौके पर मुख्य रुप से उक्त सहित जिला एवं प्रखंड स्तर के सभी पदाधिकारी, कर्मी, झामुमो जिलाध्यक्ष तनवीर आलम, सचिव मनोज ठाकुर, जिप उपाध्यक्ष सत्यनारायण यादव, रेखा चौबे उपस्थित थे।

जल संरक्षण महाअभियान में सबकी भागीदारी जरुरी : मिथिलेश ठाकुर

राँची/गढ़वा(खबर_आजतक): गढ़वा जिला में भूगर्भ जल स्तर में लगातार हो रही कमी से संपूर्ण जिला पेयजल की भीषण संकट से जूझ रहा है। जिले में जल संकट की समस्या के निदान के लिए गढ़वा विधायक झारखंड सरकार के पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री मिथिलेश कुमार ठाकुर ने बड़ी पहल की है। मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने शनिवार को रमकंडा प्रखंड के चेटे पंचायत से जल संरक्षण महाअभियान कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

इस मौके पर मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने जिले वासियों से अपील करते हुए कहा कि जल है तो कल है। जल के बिना भविष्य की कल्पना संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि आज से जल संरक्षण महा अभियान की शुरुआत की गई है। इस महाअभियान में गढ़वा जिला सहित संपूर्ण राज्य के प्रत्येक व्यक्ति की भागीदारी बहुत जरूरी है। जल संरक्षण जैसे महा अभियान की सफलता सिर्फ सरकारी विभागों, कर्मियों एवं अधिकारियों के भरोसे संभव नहीं है। जल संरक्षण महा अभियान को सफल बनाने एवं अपने तथा आने वाली पीढ़ी की बेहतर भविष्य के लिए प्रत्येक व्यक्ति की भागीदारी अति आवश्यक है।

इस दौरान मिथिलेश ठाकुर ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि सभी लोग कम से कम एक एक पौधा लगाकर संरक्षित करें। साथ ही प्रत्येक घर के समीप सोखता का निर्माण अवश्य करें। तभी भूगर्भ जल संरक्षण संभव हो पाएगा। उन्होंने कहा कि आज संपूर्ण गढ़वा एवं पलामू जिला में पेयजल की भीषण संकट उत्पन्न हो गई है। यदि अब भी लोग नहीं सचेत हुए तो आने वाली पीढ़ी का भविष्य बहुत ही भयावह होगा। बेहतर भविष्य के निर्माण के लिए जल संरक्षण महाअभियान में सबकी सहभागिता बहुत ही जरूरी है।

Related posts

दो दिवसीय प्राचार्य एवं शिक्षक प्रशिक्षण सत्र का आज हुआ समापन

Nitesh Verma

मंडल रेल प्रबंधक ने आसनसोल-कुमारधुबी स्टेशन का निरीक्षण किया

Nitesh Verma

एनएच दांतू और रविदास टोला के बीच निर्माधिण फोर लैन सड़क पर क्रोसिंग देने की मांग

Nitesh Verma

Leave a Comment