झारखण्ड राँची राजनीति

झारखंड पार्टी का दो दिवसीय महाधिवेशन संपन्न, बोले एनोस – झारखंड पार्टी के कार्यकर्ता पुराने जोश और नए तेवर के साथ क्षेत्र में जाएँ

नितीश_मिश्र

राँची(खबर_आजतक): राज्य की सबसे पुरानी पार्टी 1949 में जयपाल सिंह मुंडा द्वारा गठित राजनितिक पार्टी झारखंड पार्टी का दो दिवसीय महाधिवेशन संपन्न हो गया। इस महाधिवेशन के लिए पूरे प्रदेश से जिलाध्यक्षों, प्रखंड अध्यक्षों,पंचायत अध्यक्षों एवं विभिन्न ईकाइयों के नेता व कार्यकर्ता की भागीदारी से पार्टी पुन: पुराने अस्तित्व में दिखाई पड़ रही है।अधिवेशन की सफलता के लिए विभिन्न समितियाँ गठित की गई जिसे उद्घाटन सत्र के बाद सभा में रखा गया। इस दो दिवसीय महाधिवेशन में पूर्व मंत्री सह केंद्रीय अध्यक्ष एनोस एक्का ने कार्यकर्ताओं को संगठित एवं एकजुटता के साथ पार्टी की नीति सिद्धांत को क्षेत्र में ले जाने आवाह्न किया। उन्होनें कहा कि भाजपा गठबंधन और झामुमो गठबंधन से जनता का भरोसा हट चुका है। झारखंड पार्टी से जुड़े लोग पुराने तेवर और नई सोच के साथ क्षेत्र में जाएँ और जनता की समस्याओं का निराकरण करें। इस दौरान उन्होने कहा कि दिखावे की राजनीति से हटकर झापा में शुरु से लेकर अब तक पार्टी के पदाधिकारियों, कार्यकर्ताओ और आम जनताओं के बीच गरिमा बरकरार है।

वहीं केंद्रीय महासचिव सह पूर्व राज्यमंत्री अशोक भगत ने कहा कि पार्टी में कई राजनितिक दलों सामाजिक संगठनों से जुड़े नामी हस्तियों ने यहाँ के नीती सिद्धांत पर भरोसा कर के पार्टी का दामन थामा है।

इस दौरान पूर्व महाधिवक्ता अजीत कुमार के संगठन में रहने के कारण कार्यकर्ताओं और आमजनों के बीच झारखंड पार्टी पर भरोसा बढ़ता ही जा रहा है। नेताद्वय के अभिभाषण के उपरांत केंद्रीय महाधिवेशन के तीसरे सत्र में कार्यकारिणी समिति का चुनाव प्रकिया शुरु किया गया। महाधिवेशन में चुनाव संबंधी प्रकिया के सफल संचालन के लिए राज्य के पूर्व महाधिवक्ता अजीत कुमार एवं वरिष्ठ नेता रिजवान अहमद को निर्वाचन पदाधिकारी के रुप सभा ने सर्वसम्मति से सहमति दिया।

इस दौरान पूर्व महाधिवक्ता अजीत कुमार ने पार्टी के संविधान के तहत सांगठनिक संरचना पर ध्यानाकर्षण कराया। इसी के साथ वरिष्ठ नेता रिजवान अहमद केंद्रीय अध्यक्ष पद के लिए एनोस एक्का के नाम प्रस्तावक रहे जिसे सभागार द्वारा समर्थन दिया गया। इसके बाद निर्वाचन पदाधिकारी रिजवान अहमद द्वारा प्रधान महासचिव पद के लिए अशोक भगत के नाम के प्रस्तावक बने जिसे भारी बहुमत से समर्थन दिया गया। दोनों नेताओं को कार्यकर्ताओं ने माला पहनाकर नेता स्वीकार किया। इसी के साथ 21 केंद्रीय समिति का चयन किया गया। झारखण्ड पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष एवं प्रधान महासचिव ने चुने गए प्रतिनिधियों के सलाह पर 10 नेताओं बुद्धिजीवी एवं सक्रिय सदस्यों का मनोनयन किया जिसके नामों की महासचिव अशोक भगत ने की।इस दौरान महाधिवेशन में चयनित कार्यकारी अध्यक्ष रिजवान अहमद को पार्टी कोषाध्यक्ष के रुप में नियुक्त किया गया।

इस महाधिवेशन में मनोनीत नई कार्यकारिणी जिसमें केंद्रीय अध्यक्ष एनोस एक्का, केंद्रीय महासचिव अशोक भगत, कार्यकारी अध्यक्ष अजीत कुमार, चित्रसेन सिन्कु, किरण आइंद, रिजवान अहमद, उपाध्यक्ष ऐनुल हक अंसारी, अर्पणा हंस, ओमप्रकाश अग्रवाल, महासचिव उमेश कुमार पांडेय, ललित समद, सचिव सह प्रवक्ता अंशु लकड़ा, आनन्द पॉल तिर्की, महेंद्र जामुदा, संतोष महतो, प्रवक्ता कुमार कामेश, संगठन सचिव रोस प्रतिमा सोरेंग, अतीश सिंह, लेवनार्ड खलखो, शेखावत अंसारी, कार्यकारिणी सदस्य मंदीप मल्लाह, अधिवक्त खुर्शीद आलम, गजाधर ओहदार, राजा मंदिलार, भवानी प्रसाद गुप्ता, विष्णु उराँव, राहुल भारती, विशेष आमंत्रित सदस्य दुर्गा प्रसाद जामुदा ( पूर्व सांसद), संदेश एक्का, सभी अनुषंगी इकाई के अध्यक्ष व महासचिव, समस्त नगरध्यक्ष

Related posts

विद्यार्थी परिषद ही एकमात्र ऐसा छात्र संगठन जो छात्रों में करता है सर्वगुणों का संचार : पद्मश्री अशोक भगत

Nitesh Verma

कल दिल्ली में सम्मानित किए जायेंगे मानवाधिकार के अनूप कुमार

Nitesh Verma

22 जनवरी को राजकीय अवकाश की घोषणा करे झारखंड सरकार: चंद्रकांत रायपत

Nitesh Verma

Leave a Comment