झारखण्ड

बाबूलाल मरांडी से अरुण जोशी ने किया शिष्टाचार मुलाकात, गिरिडीह, हज़ारीबाग और लोहरदगा लाइन में रेल सेवा बढ़ाने पर हुई चर्चा

नितीश_मिश्र

राँची(खबर_आजतक): दक्षिण-पूर्व रेलवे से क्षेत्रीय रेलवे उपभोक्ता परामर्शदात्री समिति के सदस्य अरुण जोशी ने भाजपा के झारखंड प्रदेश अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी से राँची में शिष्टाचार मुलाकात की जिसमें उन्होंने बाबूलाल मरांडी के मुख्यमंत्री कार्यकाल में बनाए गए राँची-लोहरदगा-टोरी, कोडरमा- हज़ारीबाग- बरकाकाना-राँची और कोडरमा – गिरिडीह रेल लाइन बनवाने के लिए उनका आभार व्यक्त किया। साथ ही यह बताया कि इन‌ रेल लाइनों पर सीमित रेल परिचालन के वजह से इन परियोजनाओं का पूरा लाभ क्षेत्र की जनता को नहीं मिल पा रहा है। ऐसे में उन्होंने राँची से लोहरदगा गढ़वा होते हुए मुंबई के लिए ट्रेन, राँची से हज़ारीबाग होते हुए दिल्ली के लिए ट्रेन, जसीडीह से न्यू गिरिडीह होते हुए दिल्ली के लिए ट्रेन और कोलकाता से न्यू गिरिडीह होते हुए पटना के लिए ट्रेन की माँग रखी। इसके अलावा दक्षिण-पूर्व रेलवे का पुनर्गठन कर इसका मुख्यालय राँची स्थानांतरित करने के भी माँग उठाई।

उन्होने कहा कि पूर्व-मध्य रेलवे के धनबाद‌ मंडल और दक्षिण-पूर्व रेलवे के आद्रा और चक्रधरपुर रेल मंडलों द्वारा माल ढुलाई में कमाए गए राजस्व का उपयोग झारखंड के रेल सेवा विस्तार में न लगाकर अन्य राज्यों में लगाया जाता है जिस वजह से झारखंड में रेलवे का विकास अपेक्षाकृत कम हुआ है। अन्य सभी राज्यों में कम से कम एक क्षेत्रीय मुख्यालय हैं जो अपने क्षेत्र में रेलवे को विकसित करने की प्राथमिकता देते हैं। तेलंगाना के पृथक होने के बाद आंध्र प्रदेश में भी दक्षिण तटीय रेलवे नाम का नया जो़न बनाया गया।

उन्होने माँग किया है कि दक्षिण-पूर्व रेलवे का पुनर्गठन कर आद्रा और खड़गपुर रेल मंडलों के कुछ रेलखंडों को पूर्व रेलवे में डाला जाए, पूर्व-मध्य रेलवे के धनबाद रेल मंडल को दक्षिण-पूर्व रेलवे में डाला जाए और इस पुनर्गठित दक्षिण-पूर्व रेलवे का मुख्यालय राँची में स्थित हो ताकि झारखंड जैसे अति पिछड़े व रेल सुविधाओं से वंचित राज्य को न्याय मिले।

Related posts

बोकारो : डीएवी- सेक्टर-6 में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया|

Nitesh Verma

मंदिर परिसर में बने तालाब का जीर्णोद्धार ओर सुंदरीकरण जल्द से जल्द किया जाएगा : सुनीता देवी

Nitesh Verma

आज नियुक्ता और नियुक्त दोनों खुशी महसूस कर रहे : डॉ रामेश्वर उराँव

Nitesh Verma

Leave a Comment