झारखण्ड धनबाद

बीसीसीएल ने इस्पात क्षेत्र के उपभोक्ताओं के साथ इंटरेक्टिव सत्र का आयोजन किया

धनबाद (प्रतीक सिंह) :कोल इंडिया लिमिटेड की सहायक कंपनी भारत कोकिंग कोल लिमिटेड (बीसीसीएल) ने 11 जून, 2024 को होटल ली मेरिडियन, नई दिल्ली में इस्पात क्षेत्र के अपने मूल्यवान उपभोक्ताओं के साथ एक इंटरैक्टिव सत्र सफलतापूर्वक आयोजित किया। इस कार्यक्रम का उद्देश्य इस्पात उद्योग के साथ चुनौतियों का समाधान करने के लिए व्यापार करने में आसानी के लिए नवीनतम विकास की जानकारी देना और चर्चा करना था।
मौजूदा और/या आने वाली नई कोकिंग कोल वाशरी और किसी अन्य वाशरी उत्पाद उपभोग करने वाले संयंत्र के साथ इस्पात संयंत्रों द्वारा कंसोर्टियम के गठन की अनुमति देकर इस्पात क्षेत्र के उपभोक्ताओं के लिए कोकिंग कोयले के संबंध को उदार बनाया गया है।सीपीपी, सीमेंट,कपड़ा,कागज आदि समयरेखा के लचीलेपन के साथ। इसका उद्देश्य आयात प्रतिस्थापन और “आत्मनिर्भर भारत” को बढ़ावा देना है।सत्र में भारत में कोकिंग कौल के सबसे बड़े उत्पादक के रूप में बीसीसीएल की महत्वपूर्ण भूमिका पर भी प्रकाश डाला गया, जो देश के कुल उत्पादन में 50% से अधिक का योगदान देता है। इस्पात क्षेत्र में देश की वृद्धि और आत्मनिर्भरता का समर्थन करने पर ध्यान केंद्रित करते हुए, बीसीसीएल ने गुणवत्ता और टिकाऊ प्रथाओं के प्रति अपनी प्रतिबद्धता पर जोर दिया।आयोजन की मुख्य विशेषताएं आयात प्रतिस्थापन,कोयला गुणवत्ता तुलना और आगामी ट्रेंच- VII स्टील (कोकिंग) लिकेज नीलामी पर चर्चा थी, जिससे कंपनियों के संघ को लिंकेज नीलामी में बोली लगाने की अनुमति मिली,जिससे कंपनियों के बीच सहयोग के लिए अधिक लचीलापन और अवसर प्रदान हुए।

कोकिंग कोल वाशरी की स्थापना के लिए समयसीमा।इस कार्यक्रम में कोयला मंत्रालय के अतिरिक्त सचिव एम. नागराजू, कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) के अध्यक्ष पीएम प्रसाद, सीआईएल के निदेशक विपणन मुकेश चौधरी और बीसीसीएल के सीएमडी समीरन दत्ता की उपस्थिति रही। बीसीसीएल से राकेश कुमार सहाय, निदेशक (वित्त),एसके सिंह, डीटी (ओपी), एस नागाचारी डीटी (पी एंड पी) और हितेश वर्मा, जीएम (विपणन और बिक्री) के साथ। उनकी भागीदारी ने सत्र के महत्व और कोयला और इस्पात क्षेत्रों के सहयोगात्मक प्रयासों को रेखांकित किया।

इस कार्यक्रम में भारत भर की सभी प्रमुख इस्पात कंपनियों के प्रतिनिधियों ने भी भाग लिया जिनमें सेल,आरआईएनएल,टाटा स्टील,जेएसडब्ल्यू स्टील,जेएसपीएल, आर्सेलर मित्तल निप्पॉन स्टील,जेएसडब्ल्यू- भूषण पावर एंड स्टील, रश्मी मेटालिक्स जैसी प्रमुख कंपनियों के प्रमुख हितधारक शामिल थे। एनएमडीसी स्टील, सनफ्लैग स्टील,जय बालाजी इंडस्ट्रीज आदि। इंडियन स्टील एसोसिएशन,ऑल इंडिया इंडक्शन फर्नेस एसोसिएशन,फेड्रेशन ऑफ इंडियन मिनरल इंडस्ट्रीज,कोल कंज्यूमर्स, एसोसिएशन आदि ने कई उद्यमियों के साथ भाग लिया जो कोकिंग कोल वॉशरी स्थापित करने के इच्छुक हैं।देश में आयात प्रतिस्थापन को बढ़ावा देना।इस विविध प्रतिनिधित्व ने सीआईएल/बीसीसीएल की पहलों में व्यापक रुचि और भागीदारी पर प्रकाश डाला।एम. नागराजू और पीएम प्रसाद ने देश के कोयला क्षेत्र में बीसीसीएल के रणनीतिक महत्व और ऊर्जा सुरक्षा और आत्मनिर्भरता प्राप्त करने में इसकी महत्वपूर्ण भूमिका पर भी जोर दिया।बीसीसीएल के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक समीरन दत्ता ने कहा यह इंटरैक्टिव सत्र इस्पात क्षेत्र के भीतर सहयोग और नवाचार को बढ़ावा देने की हमारी प्रतिब‌द्धता को रेखांकित करता है।

हमारा प्रयास आत्मनिर्भर भारत के दृष्टिकोण के अनुरूप हैं और हम इसके लिए समर्पित हैं।उच्चतम गुणवत्ता वाले कोकिंग कोयले के साथ हमारे उपभोक्ताओं को सहायता प्रदान करना।
कार्यक्रम का समापन प्रश्नोत्तर सत्र के साथ हुआ जिससे प्रतिभागियों को गॉल,निदेशक विपणन,सीआईएल और बीसीसीएल टीम के साथ सीधे जुड़ने और भविष्य के सहयोग पर अंतर्दृष्टि साझा करने का मौका मिला।सत्र अत्यधिक सफल रहा और प्रतिभागियों ने आने वाले दिनों में सामने आने वाले सार्थक परिणामों के बारे में आशावाद व्यक्त किया।

Related posts

बोकारो : सी. बी. एस ई. (पूर्वी क्षेत्रीय) हैंडबॉल टूर्नामेंट की तैयारी पूरी झारखंड, बिहार एवं उत्तर प्रदेश से पहुँचने लगी है टीम

Nitesh Verma

16 फरवरी के देशव्यापी हड़ताल को झारखंड में व्यापक बनाने की तैयारी, ये प्रमुख पार्टियों का मिल रहा समर्थन

Nitesh Verma

गोमिया : इंडिया प्रत्याशी बेबी देवी की जीत पक्की : माधव लाल

Nitesh Verma

Leave a Comment