झारखण्ड राँची राजनीति

मंत्रिपरिषद निर्णय के अनुरूप लातेहार में ज़मीन का पुनः सर्वे शीघ्र : बंधु

विभागीय सचिव अमिताभ कौशल से लातेहार के रैयतों ने की मुलाक़ात, कहा ज़मीन लुट गई हमारी

नितीश_मिश्र

राँची(खबर_आजतक): लातेहार में गहराती भूमि समस्याओं, अनेक रैयतों द्वारा अपनी ज़मीन के लुटे जाने और दस्तावेजों में हेर-फेर, जालसाजी और मिलीभगत एवं अवैध खरीद-विक्री का आरोप लगाते हुए सोमवार को लातेहार से आए रैयतों और ज़मीन के मूल खतियान धारियों के 20 सादस्यीय दल ने पूर्व मंत्री बंधु तिर्की के नेतृत्व में राजस्व, निबंधन एवं भूमि सुधार विभाग के सचिव अमिताभ कौशल से मुलाक़ात की और अपनी माँगों से संबंधित आवेदन उन्हें सौपा।
पूर्व मंत्री, झारखंड सरकार की समन्वय समिति के सदस्य और झारखण्ड प्रदेश कॉंग्रेस कमेटी का कार्यकारी अध्यक्ष बंधु तिर्की के अनुसार अमिताभ कौशल ने उन्हें भरोसा दिलाया है कि लातेहार में जमीन समस्याओं का शीघ्र निराकरण किया जाएगा और इसके संदर्भ में उन्हें विभागीय मंत्री और प्रदेश के मुख्य सचिव ने भी निर्देशित किया है।

बंधु तिर्की ने कहा कि 25 अक्टूबर 2019 को मंत्रीपरिषद की बैठक में लिये गये निर्णय के अनुसार लातेहार जिला के सात अंचलों, बालूमाथ, बरवाडीह, महुआटांड, चंदवा, मनिका, गारु एवं लातेहार राजस्व ग्रामों की स्थानीय सीमा के भीतर पड़नेवाले समस्त जमीन का पुनः व्यवहारिक स्तर पर भू सर्वेक्षण होना था लेकिन अब तक उसका अनुपालन न होने से अनेक गंभीर समस्याए खड़ी हो गयी है। उन्होंने कहा कि इसके तहत प्रत्येक भूमि-धारी या दखलकार का नाम, प्रत्येक सभी काश्तकार का वर्ग निर्धारण, मुंडारी, खुंटकट्टीदार, कायमी रैयत, दखलकार रैयत, गैर दखलकार रैयत, खुंटकट्टी हक़ प्राप्त रैयत, दर रैयत की एक या अधिक सीमा वाले प्रत्येक रैयत और दखलकार की परिस्थिति, सीमा आदि दर्ज़ करने के साथ ही अन्य अनेक निर्देश दिये गए थे।

उन्होंने कहा कि अनेक दृष्टिकोण से विस्तृत भू-सर्वेक्षण एवं वर्गीकरण किया जाना बहुत जरूरी था परंतु वास्तविकता यह है कि लातेहार जिले के सभी सात अंचलों में किसी भी प्रकार का कोई भू-सर्वेक्षण नहीं किया गया जिसके कारण ज़मीनी स्तर पर अनेक विसंगतियों के कायम रहने से अनेक परिवारों एवं समाज में भी तनाव बढ़ रहा है। वहीं दूसरी ओर, अनेक अवांछित तत्व कुछेक सम्बंधित सरकारी अधिकारियों एवं कर्मचारियों की मिलीभगत से अपनी मनमानी कर रहे हैं जिसका परिणाम सभी को भुगतना पड़ रहा है।
रैयतों की अन्य मांगों में लातेहार में किश्तवार, खानापुरी, ड्राफ्ट प्रकाशन, बन्डा परचा, के प्रकाशन की प्रक्रिया सही तरीके से पूरी करने, जिस रैयत के नाम से जमीन है उसके नाम से खतियान न बनाकर किसी दूसरे के नाम से बना दिये जाने की जाँच करवाने, तालाब, नाला, रास्ता जैसी सर्वसाधारण भूमि को किसी रैयत के नाम पर दर्ज़ कर रैयती कायम करने की जाँच और उसे रद्द करने, जमीन नीलामी, केवाला, बंदोबस्ती से ज़मीन प्राप्त करनेवाले रैयत का नाम खतियान में कायम करने के साथ ही खतियानी रैयत की गलत जाति का अंकन, खतियान में हिस्सेदार का नाम दर्ज नहीं होने, आदिवासियों के धार्मिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक भूमि सरना, जाहेर थान, देशावली, देवस्थान, मसना, हड़गड़ी, डालीकतारी, भुतखेता, पहनई, मततोई, पइनभोरा, कोटवारी नौकराना, जतरा स्थल, आखड़ा, धूमकुडिया, बकास्त, मुंडा आदि को किसी रैयत के नाम पर दर्ज करने और उस जमीन की अवैध खरीद-बिक्री की आशंका, स्व अर्जित संपत्ति में भी हिस्सेदार का नाम जोड़े जाने, सर्वे खतियान और नक्शा में एक ही रैयत का अलग-अलग रकबा दर्ज़ होने, खतियान में एक खाता में ही अनुसूचित जाति एवं अन्य जाति का नाम दर्ज़ होने, किसी एक ही भूमि का सीएस और आरएस खतियान में ज़मीन के गैरमजरुआ दर्ज़ होने पर सीएनटी की धारा 87 के तहत उसी ज़मीन को रैयती मान्यता देने जैसे अनेक आरोप लगाते हुए उसके निराकरण की माँग की गयी है।

इस दौरान बंधु तिर्की के नेतृत्व में विभागीय सचिव से मिले प्रतिनिधिमंडल ने उनसे आग्रह किया कि परिस्थितियों की गंभीरता के मद्देनज़र अविलंब सकारात्मक निर्णय लें क्योंकि इसके कारण रैयतों को खामियाजा उठाना पड़ रहा है और वाद-विवाद, सामाजिक तनाव का खतरा बरकरार है।

इस दौरान सचिव अमिताभ कौशल से मिलने वाले प्रतिनिधिमंडल में जीतू उराँव, प्रभात उराँव, आशीष उराँव, रामप्यार उराँव, चन्द्रदेव उराँव, मो. मोजीबुल्लाह, तुलेश्वर उराँव, अमित उराँव, सुनीता उराँव, रामलाल उराँव, नरेश उराँव, सहादेव उराँव, रामा उराँव, जयराम उराँव, संदीप उराँव, सत्यजीत देवधारिया शामिल थे।

Related posts

बोकारो : ईएसएल प्रोजेक्ट वेदांता आस विद्यालय के अंतर्गत युवा प्रतिभाओं को सम्मानित किया गया

Nitesh Verma

बोकारो : बेहतर कार्य के लिए रोटरी क्लब ऑफ बोकारो ने क्लब के सदस्यों को किया सम्मानित

Nitesh Verma

चिन्मय विद्याल्य मे दो दिवसीय कार्यशाला का सफल समापन

Nitesh Verma

Leave a Comment