झारखण्ड राँची शिक्षा

राँची विश्वविद्यालय में व्याप्त विभिन्न शैक्षिक समस्याओं को लेकर 8 से 18 जनवरी तक आंदोलन करेगी अभाविप राँची महानगर

आउटसोर्सिंग एजेंसी विश्वविद्यालय में बर्दाश्त नहीं, अविलंब आउटसोर्सिंग एजेंसीज को बाहर करें आरयू

आरयू भ्रष्टाचार का अड्डा बन चुका है: दुर्गेश यादव

नितीश_मिश्र

राँची(खबर_आजतक): आरयू में व्याप्त विभिन्न शैक्षणिक समस्याओं एवं आउटसोर्सिंग कंपनी को हटानें को लेकर शनिवार को विद्यार्थी परिषद ने स्थानीय प्रान्त कार्यालय में प्रेस वार्ता की। इस प्रेस वार्ता में शैक्षणिक समस्याओं को लेकर चर्चा हुई जिसमें विश्वविद्यालय में व्याप्त भ्रष्टाचार एवं कुलपति की संलिप्तता एवं आगामी अभियानों को लेकर विस्तृत चर्चा हुई।

इस प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए अभाविप झारखंड प्रदेश के मीडिया संयोजक दुर्गेश यादव ने बताया कि आरयू के कुलपति प्रो अजीत सिन्हा आई आई टी रुडकी जैसे शिक्षण सांस्र्थानों के तर्ज पर आरयू के पास सभी प्रकार के भवन, कर्मचारी एवं सुविधाएँ रहने के बावजूद भी आखिर क्यों कुलपति विश्वविद्यालय के प्रशासनिक कार्यों को बाहरी स्रोंतों के हाथों में सौंपकर विश्वविद्यालय के विधि व्यवस्था को चौपट करने का कार्य कर रहे है। आउटसोर्सिंग का विरोध शुरू से ही विद्यार्थी परिषद करती आई है, आरयू के कुलपति अभिलंब छात्रहित में जल्द से जल्द फैसला ले अन्यथा विद्यार्थी परिषद छात्र क्षेत्र में हुक आंदोलन करने को बाध्य होगी।

इस वार्ता में उपस्थित प्रदेश सह-मंत्री दिशा ने कहा कि राँची विश्वविद्यालय पूर्णतः भ्रष्टाचार का अड्डा बन चुका है। आए दिन जिस प्रकार से छात्र छात्राओं को प्रवेश परीक्षा एवं परिणाम को लेकर समस्याओं का सामना करना पड़ता है और विश्वविद्यालय के पदाधिकारी नये नये टेंडर करने में व्यस्त रहते है परीक्षा संबंधी कार्यों का आउटसोर्सिंग करना एवं भारी गड़बड़ी के बावजूद भी उस निजी कंपनी को संरक्षण देना यह बताता है कि दाल में कुछ काला है। आए दिन अंक-पत्र में त्रुटि, परीक्षा शुल्क में 50 प्रतिशत तक वृद्धि ,सत्र का अनियमित होना इस बात का सूचक है।

     वहीं राँची महानगर जिला संयोजक अमर सिंह नें कहा कि विश्वविद्यालय आए दिन सभी विभागों को प्राइवेट कंपनी को सौंपता जा रहा है, परिणामस्वरूप विश्वविद्यालय की विधि व्यवस्था पूर्णतः ठप हो चुकी है। विश्वविद्यालय के पदाधिकारी शैक्षणिक व्यवस्था के सुधार के लिए नहीं बल्कि अपने व्यक्तिगत एजेंडे के साथ काम कर रहे है। विश्वविद्यालय के कुलपति विधि व्यवस्था को ठीक करने के बजाय नये-नये टेंडर निकाल कर अपनी जेब भरने में व्यस्त है।

        अभाविप राँची महानगर मंत्री ऋतुराज शाहदेव नें कहा कि विश्वविद्यालय के पदाधिकारी सारे नियम व शर्तों को ताक पर रखकर कार्यों को कर रही है। पिछले कुछ समय में ऐसी नियुक्तियां हुई है जिसका कोई आधार नहीं है, सभी सेवानिवृत्त तथा वैसे हैं जो उस विषय के जानकार भी नहीं हैं साथ ही आउटसोर्सिंग के माध्यम से ग्रामीण एवं गरीब छात्रों का आर्थिक दोहन किया जा रहा है अगर कुलपति तत्काल इस कम्पनी को नहीं हटाती है, तो विद्यार्थी परिषद सभी परिसरों में 08 जनवरी से चरणबद्ध आंदोलन करेगी। इस प्रकार के भ्रष्ट कुलपति को राजभवन तत्काल पदमुक्त करे।

Related posts

नेशनल वुशु जजेस ट्रेनिंग एंड सर्टिफिकेशन कोर्स

Nitesh Verma

श्री अग्रसेन स्कूल में स्केटिंग चैंपियनशिप का किया गया आयोजन

Nitesh Verma

राँची विश्वविद्यालय में आयोजित करम महोत्सव में राज्यपाल सीपी राधाकृष्णन ने लिया भाग

Nitesh Verma

Leave a Comment