झारखण्ड राँची राजनीति

लोकतांत्रिक देश की आत्मा है संविधान, अधिकारों और दायित्वों का बोध कराता है: सुदेश महतो

नितीश_मिश्र

राँची(खबर_आजतक): आजसू के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश महतो चमघाटी अनगड़ा में आयोजित राँची जिला समिति की बैठक में कहा कि आजाद भारत के इतिहास में 26 नवंबर का दिन बेहद खास और अहमियत वाला है। वर्ष 1949 में आज ही के दिन संविधान को अंगीकार किया था। यह दिन हमें दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के व्यापक संविधान में वर्णित अनेकता में एकता, न्याय, समानता तथा सह अस्तित्व की भावना को आत्मसात करने के लिए प्रेरित करता है। साथ ही अपने अधिकारों और राष्ट्र के प्रति हमारे दायित्वों का बोध करवाता है।

इस बैठक में राँची जिला समिति, महिला जिला समिति के सभी पदाधिकारी व सदस्यों के अलावा जिला परिषद के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सदस्य, प्रमुख, उप प्रमुख, प्रखण्ड समिति के अध्यक्ष, सचिव उपस्थित थे।

आजसू के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश महतो ने सभी लोगों को संविधान दिवस की शुभकामनाएं देते हुए संविधान का निर्माण करने वाले बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर, संविधान सभा के सदस्य जयपाल सिंह मुंडा समेत सभी बुद्धिजीवियों और कलमकारों का नमन किया। उन्होंने लोगों से संविधान की सच्‍ची भावना को मजबूत बनाने और देश की एकता ,अखंडता के लिए संकल्‍प लेने का अनुरोध किया। उन्होने कहा कि भारत का संविधान कई सिद्धांतों को समेटे है जिनके आधार पर नागरिकों के लिए मौलिक अधिकार, विचारों व अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता, समानता, सामाजिक न्याय, राजनीतिक सिद्धांत, प्रक्रियाएँ, दिशा-निर्देश, कानून वगैरह तय किए गए हैं।

इस बैठक में उपस्थिति सभी सदस्यों को संबोधित करते हुए सुदेश कुमार महतो ने कहा कि राँची जिले में संगठन के विस्तार और मजबूती के लिए जिला समिति के सभी सदस्य और हरेक कार्यकर्ता अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए स्वीकार करें और आपस में मिलकर काम करें। क्षेत्र की जनता से सीधा संवाद स्थापित करें। मौजूदा सरकार की विफलताओं और वादा खिलाफी से जनता को अवगत कराएं। राज्य के हालात बदलने के लिए कार्यकर्ताओं को जूझना होगा।

इस बैठक की शुरुआत आज के ही दिन मुम्बई में वर्ष 2008 में हुए आतंकवादी हमले में जान गंवाने वाले निर्दोष नागरिकों और देश की सुरक्षा में अपना सर्वस्व बलिदान देने वाले सभी सुरक्षाकर्मियों की याद में मौन रख कर श्रद्धांजलि अर्पित कर की गई। वीर शहीदों को याद करते हुए सुदेश महतो ने कहा कि 26/11 की तारीख एक काले दिन के रुप में दर्ज है। हमारे वीर जाबांजो के बलिदान को कभी भी भुलाया नहीं जा सकता है। देश सदैव उनका ऋणी रहेगा।

इस बैठक में राँची जिलाध्यक्ष संजय महतो, जिला कार्यकारी अध्यक्ष भरत कांशी, जिला कार्यकारी अध्यक्ष हकीम अंसारी, डॉ मुकुंद चंद्र मेहता, वाई बी एन विश्वविद्यालय के सलाहकार डॉ सुधीर यादव, महिला जिला अध्यक्ष बीना कुमारी, जलनाथ चौधरी वरीय उपाध्यक्ष, वरीय जिला उपाध्यक्ष प्रकाश लकड़ा, उपाध्यक्ष संजीव सिंह, जिला उपाध्यक्ष प्रतियुष प्रशांत, जिला प्रवक्ता रोशन मुंडा, निर्मल भगत, जिला परिषद अध्यक्ष, जिला उपाध्यक्ष वीना चौधरी, जिला परिषद सदस्य मंजू सिंह, सरिता देवी, परमेश्वरी शांडिल्य, आदिल अजीम, गौतम साहू, पूर्व जिला परिषद उपाध्यक्ष पार्वती देवी, गौतम साहू, जितेंद्र बारीक, सत्यनारायण मुंडा आदि मौजूद थे।

Related posts

चंद्रयान-3 के लॉन्चिंग को लेकर आदिवासी समाज ने सरना माँ से किया प्रार्थना

Nitesh Verma

SC Slams Punjab Government: ‘लगता है, हर गली में शराब की भठ्ठी खुल गई है’, पंजाब में नशाखोरी पर सुप्रीम कोर्ट की सख्त टिप्पणी

Nitesh Verma

सांसद चंद्र प्रकाश चौधरी ने मुख्य चुनाव कार्यालय का नारियल फोड़ कर किया
उद्घाटन

Nitesh Verma

Leave a Comment