झारखण्ड बोकारो

वेदांता ईएसएल ने 100 से अधिक छात्रों के साथ ‘हैक-ए-थॉन 1.0’ का आयोजन किया

रिपोर्ट नितेश वर्मा

बोकारो (खबर आजतक): नवाचार और डिजिटलीकरण में वैश्विक अग्रणी, वेदांता ईएसएल स्टील लिमिटेड ने हाल ही में एक अभूतपूर्व डिजिटल पहल, ‘हैक-ए-थॉन 1.0’ का आयोजन किया। ईएसएल की डिजिटल टीम द्वारा आयोजित किये गए इस डिजिटल पहल में एनआईटी जमशेदपुर, एनआईटी दुर्गापुर, बीआईटी सिंदरी, एक्सआईएसएस रांची और जीजीईएसटीसी जैसे बोकारो के शीर्ष कॉलेजों की 56 से अधिक टीमों ने भाग लिया था। युवा प्रतिभाओं की रचनात्मक क्षमताओं का दोहन करने और समस्या-समाधान में अपार क्षमता दिखाने पर ध्यान देने के साथ- साथ, हैकथॉन ने डिजिटल परिवर्तन और औद्योगिक शिक्षा के बीच के अंतर को कम करने में एक महत्वपूर्ण जीत हासिल की है।

हैकथॉन ने प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को एक साथ ला कर, उद्योग विशेषज्ञों द्वारा प्रस्तुत वास्तविक दुनिया की चुनौतियों का समाधान करके नवाचार को बढ़ावा देने और उद्योग 4.0 और उद्योग 5.0 की सक्रिय शिक्षा को बढ़ावा देने पर ध्यान केंद्रित किया। प्रतिभागियों ने असाधारण रचनात्मकता और तकनीकी विशेषज्ञता का प्रदर्शन किया और अपने कॉलेजों और ईएसएल प्रबंधन की उचित मदद और मार्गदर्शन के साथ ऐसे समाधान विकसित किए जो उनकी रचनात्मक क्षमताओं पर प्रकाश डालते हैं। उन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में नवीन समाधानों की खोज की, जिनमें सिंटर सैंपलिंग के लिए रोबोटिक आर्म विकसित करना, 3डी प्रिंटिंग और वेस्ट टू वेल्थ के विचार, औद्योगिक सुरक्षा और सस्टेनेबिलिटी आदि शामिल हैं। यह कार्यक्रम उल्लेखनीय सीख और नवीन समाधानों के साथ संपन्न हुआ, जिसने इन युवा टेक्नोक्रेट्स की अपार क्षमताओं को प्रदर्शित किया।

जीजीईएसटीसी की टीम बाइनरी कोडर्स ने अपनी टीम लीड अनुष्ठा कुमारी और टीम सदस्य अभिषेक सेन के नेतृत्व में समस्या कथन “ऐप आधारित वाहन ट्रैकिंग सिस्टम” के लिए अपने उत्कृष्ट प्रोटोटाइप के साथ पहला स्थान हासिल किया। उनके समाधान ने कर्मचारी अनुभव को बढ़ाने में प्रौद्योगिकी की परिवर्तनकारी शक्ति को प्रदर्शन किया।

दूसरे स्थान पर आने वाली बीआईटी सिंदरी की टीम श्रेष्ठा थी, जिसका नेतृत्व उनके टीम लीड मनीष कुमार और टीम के सदस्य विकास राम और सोनू रजक ने किया, जिन्होंने समस्या कथन “रीइन्फोर्सिंग सेफ्टी कल्चर” के लिए एक दिलचस्प समाधान प्रस्तुत किया। उनके अभिनव दृष्टिकोण ने सुरक्षा संस्कृति को बढ़ाने और एसओपी के पालन की दक्षता बढ़ाने में स्वचालन और एनीमेशन की क्षमता का प्रदर्शन किया।

बीआईटी सिंदरी की टीम टाइटंस ने अपने टीम लीड शिवम कुमार मिश्रा और टीम सदस्य ऋषिका सिन्हा के नेतृत्व में तीसरा स्थान हासिल किया। उनके सहयोग और समर्पण के परिणामस्वरूप “औद्योगिक क्षेत्र में प्रदूषण और धूल नियंत्रण का प्रबंधन” समस्या कथन पर आधारित स्वचालित छिड़काव प्रणाली जैसे नवीन पर्यावरण-अनुकूल समाधान सामने आए।

वेदांता ईएसएल स्टील लिमिटेड की मुख्य डिजिटल अधिकारी , श्रीमती नीलिमा शर्मा ने उल्लेख किया कि हैकथॉन उद्योग 4.0 और उद्योग 5.0 का नेतृत्व करने के लिए राज्य में मौजूद अपार प्रतिभा और नवाचार का प्रमाण है। पहल पर अपने विचार साझा करते हुए, ईएसएल के सीएफओ, श्री आनंद दुबे ने कहा कि प्रौद्योगिकी आज उद्योग के सामने आने वाली कई चुनौतियों का समाधान खोजने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी, जिसका नेतृत्व ये युवा टेक्नोक्रेट करेंगे जो सक्रिय रूप से निर्माण में भाग ले रहे हैं।

वेदांता ईएसएल स्टील लिमिटेड के सीईओ श्री आशीष गुप्ता ने युवा प्रतिभाओं के उत्साह और हैकथॉन के दौरान विकसित समाधानों पर प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने कहा, “वेदांता ईएसएल ‘हैकथॉन 1.0’ ने नवाचार और सहयोग की एक नई लहर की शुरुआत की है, जिसने इन युवा टेक्नोक्रेट्स को उद्योग 4.0 और उद्योग 5.0 में हमारे डिजिटल परिवर्तन की यात्रा में एक परिवर्तनकारी शक्ति के रूप में स्थापित किया है। हमें झारखंड के शीर्ष इंजीनियरिंग कॉलेजों के साथ साझेदारी से इस हैकथॉन को निष्पादित करने और भाग लेने वाली टीमों की उल्लेखनीय क्षमताओं के प्रदर्शन पर बहुत गर्व है।

इस कार्यक्रम ने न केवल भाग लेने वाली टीमों की उपलब्धियों का जश्न मनाया, बल्कि नवाचार, सहयोग और समस्या-समाधान को बढ़ावा देने के लिए वेदांता ईएसएल स्टील लिमिटेड की प्रतिबद्धता को भी दर्शाया।

Related posts

15 टन अवैध कोयला लदा ट्रक जप्त, ड्राइवर खलासी फरार

Nitesh Verma

कमलेश सिंह की अनुसंशा पर हुसैनाबाद हैदरनगर व हरिहरगंज को मिला एंबुलेंस

Nitesh Verma

बोकारो : दादा का जो भी संकल्प सपना बोकारो का धरती पर उतारूंगा: बिरंची नारायण….

Nitesh Verma

Leave a Comment