झारखण्ड राँची

सीयूजे के प्रोफेसर भास्कर सिंह और उनके शोधार्थी डॉ. दीपेश कुमार को बायोडीजल पर मिला व्यावसायिक पेटेंट, वीसी प्रो क्षितिज भूषण दास ने जताई खुशी

नितीश_मिश्र

राँची(खबर_आजतक): सीयूजे के प्रोफेसर भास्कर सिंह और उनके शोधार्थी डॉ. दीपेश कुमार को बायोडीजल पर व्यावसायिक पेटेंट मिला। यह पेटेंट वर्ष 2020 से अगले 20 वर्षों के लिए प्रदान किया गया है। यह पेटेंट बायोडीजल के ऑक्सीडेटिव स्थिरता और शीत प्रवाह गुणों को बढ़ाने की विधि पर है।
डॉ. भास्कर सिंह की देखरेख में काम करते हुए झारखंड केंद्रीय विश्वविद्यालय के पर्यावरण विज्ञान विभाग के शोधकर्ता पृथ्वी ग्रह-समर्थक उत्पादों को विकसित करने के उद्देश्य से विभिन्न पथ-प्रदर्शक अनुसंधान और विकासात्मक प्रयासों में लगे हुए हैं। डॉ. भास्कर सिंह स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी की दुनिया के उन दो प्रतिशत वैज्ञानिकों की सूची में भी हैं जिनके काम का प्रभाव उस अध्ययन के क्षेत्र पर सर्वाधिक पड़ता है। विश्वविद्यालय प्रशासन ने दोनों शोधकर्ताओं को उनकी उपलब्धि के लिए बधाई दी है। सीयूजे के कुलपति प्रो क्षिति भूषण दास ने सीयूजे को पेटेंट मिलने पर प्रसन्नता व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि यह विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं और संकायों द्वारा किए गए अथक प्रयासों का एक ईमानदार परिणाम है।

ग्रीनहाउस प्रभाव और जलवायु परिवर्तन को बढ़ाने में जीवाश्म ईंधन का दहन सबसे बड़ा योगदानकर्ता बना हुआ है और इसके उत्सर्जन से आर्थिक विकास को अलग करना अब दुनिया भर में सर्वोच्च प्राथमिकता है। जलवायु परिवर्तन के खतरे के खिलाफ हमारी लड़ाई में बायोएथेनॉल और बायोडीजल जैसे जैव ईंधन प्रमुख हैं क्योंकि ये परिवहन क्षेत्र में हमारे मौजूदा ऊर्जा मिश्रण को आसानी से प्रतिस्थापित/पूरक कर सकते हैं।
बायोडीजल खनिज डीजल का एक बहुत ही आशाजनक विकल्प है क्योंकि यह नवीकरणीय बायोमास से प्राप्त होता है और आमतौर पर इसे कार्बन-तटस्थ ईंधन माना जाता है। एक बेहतर विकल्प होने के बावज़ूद, बायोडीजल का बड़े पैमाने पर व्यावसायीकरण इसकी निम्न स्थिरता और खराब कम तापमान संचालन क्षमता के कारण बाधित है।

झारखंड केंद्रीय विश्वविद्यालय के पर्यावरण विज्ञान विभाग के डॉ. भास्कर सिंह और डॉ. दीपेश कुमार ने संयुक्त रुप से एक ऐसी विधि विकसित की है जो एक साथ इन दोनों गुणों में सुधार करती है। पेटेंट कार्यालय, भारत सरकार ने फरवरी 2024 को डॉ. भास्कर सिंह और डॉ. दीपेश कुमार को इस आविष्कार के लिए पेटेंट प्रदान किया। पारंपरिक दृष्टिकोण के विपरीत जिसमें ईंधन में दो अलग-अलग प्रकार के सिंथेटिक योजकों को मिलाना शामिल है, विकसित विधि में केवल एक प्रकार का प्राकृतिक योजक शामिल है।

आविष्कारी विधि न केवल किफायती है बल्कि पर्यावरण की दृष्टि से भी अधिक वांछनीय है। यह विधि ईंधन की स्थिरता और कम तापमान पर इसके प्रदर्शन को महत्वपूर्ण रूप से बढ़ाती है और डीजल में बायोडीजल के उच्च मिश्रण के उपयोग में भी सहायता कर सकती है, जो वर्तमान में अधिकतम 7% तक सीमित है जिससे स्वच्छ ईंधन का अधिक प्रतिशत प्राप्त होता है। बायोडीजल का उपयोग सभी प्रकार के मौजूदा डीजल इंजनों में किया जा सकता है और लंबी दूरी के भारी-भरकम वाहनों के लिए इसका विशेष महत्व होगा, जो कि बैटरी चालित वाहन खंड में सीमित विकल्प हैं।

Related posts

संत जेवियर्स बोकारो में 55वां वार्षिक खेलकूद समारोह का भव्य आयोजन

Nitesh Verma

झारखंड के राज्यपाल श्री सी.पी. राधाकृष्णन का हुआ धनबाद आगमन

Nitesh Verma

शिक्षा लोन की आड़ में छात्रों को प्रताड़ित करता है बैंक, इस कार्रवाई की आवश्यकता : अजय राय

Nitesh Verma

Leave a Comment