झारखण्ड राँची राजनीति

सुभाष मुण्डा के हत्यारे का इनकाउंटर होना चाहिए : विजय शंकर नायक

राँची (ख़बर आजतक): दिवंगत युवा नेता एवं समाजसेवी स्व. सुभाष मुण्डा के हत्यारे को जल्द गिरफ्तारी के लिए। शान्ति पुर्ण कैंडल मार्च निकाला गया। पुर्व व वर्तमान की ज्वलंत मुद्दों में आदिवासी अगुवा तथा नेताओं की हत्या करने करवाने से, सुरक्षा व्यवस्था कहीं न कहीं पुलिस प्रशासनिक व्यवस्था संदेह के घेरे में है। अपराधियों का सरकार कड़े फैसले लें। हम सभी आदिवासी मूलवासी संगठनों का एक मांग है, सरकार से हत्यारे का इनकाउंटर होना चाहिए। ताकि कोई भी कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े न करें और हत्यारों का मनोबल भी टूटेगा। कैंडल मार्च का समापन एलबर्ट एक्का चौक पर, स्व सुभाष मुण्डा की तस्वीर पर माल्यार्पण व दीप/ कैंडल जलाकर किया गया।
मुख्य रूप से अजय तिर्की, विजय शंकर नायक,संतोष तिर्की, प्रकाश हंस, अधिवक्ता किशोर लोहरा, दीपक मुण्डा, प्रेमशाही मुण्डा, योगेन्द्र उराॅंव, करमा लिंडा, निकोलस एक्का, अनिल तिग्गा, अजीत उराॅंव, राजेश कुजूर, सुभाष मुण्डा, सुखनाथ लोहरा, प्रफुल्ल लिंडा, प्रकाश टोप्पो, चंद्रदेव बालमुचू, स्मिथ तिर्की, रमेश चंद्र उराॅंव, राजेन्द्र तिर्की, संजय हंस, माया नायक, शिवानी पाल, वीणा लिंडा, अश्रिता टोप्पो, सीमा केरकेट्टा, ऐरेन तिर्की रम्मी मुण्डा, करमी मुण्डा, सुनिता मुण्डा, विनिता तिग्गा, सुगिया कच्छप, गंगी कुजूर, कमला लकड़ा, सिमरन टोप्पो, मनसाराम लोहरा, राजकुमारी उराॅंव, सीता खलखो, सुभानी तिग्गा, सुमन तिग्गा, सरिता केरकेट्टा, बाबूलाल महली, सावन लिंडा, सन्नी मिंज, विक्की कच्छप, झरिया उराॅंव, विष्णु मुण्डा, धंजू नायक अरविंद बाखला, विजय कच्छप, विजय बड़ाईक, गैना कच्छप, रुपचंद जी, जयंत कच्छप, दिनेश मुण्डा, मुन्ना उराॅंव, मुख्य रूप से शामिल कैंडल जुलूस के अंतिम में 2 मिनट का मौन रखकर उमरेड सुभाष मुंडा के आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना किया गया
1.आॅल इंडिया डेमोक्रेटिक वूमेंस एशोशियन, झारखण्ड।

  1. राजी पहाड़ा प्राथना सभा, राॅंची।
  2. केन्द्रीय सरना समिति, झारखण्ड प्रदेश।
    1 डेमोक्रेटिक वूमेंस एशोशियन, झारखण्ड।
  3. राजी पहाड़ा प्राथना सभा, राॅंची।
  4. केन्द्रीय सरना समिति, झारखण्ड प्रदेश।
    4.झारखंड बचाओ मोरचा
  5. झारखण्ड क्षेत्रीय पहड़ा समिति।
  6. आदिवासी अधिकार मंच, झारखण्ड।
  7. सरना समिति, कडरू, राॅंची।
  8. आदिवासी सरना समिति, ओरमांझी।
  9. आदिवासी जन परिषद, राॅंची।
  10. अखिल भारतीय आदिवासी विकास परिषद, राॅंची।
  11. आदिवासी सेना।

Related posts

18 दिसंबर को गूँज महोत्सव-2022 का शुभारंभ, राज्यपाल होंगे मुख्य अतिथि

Nitesh Verma

भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी ‘सोशल मीडिया परफॉर्मेंस इंडेक्स’ में झारखंड को पहला स्थान

Nitesh Verma

झारखण्ड चैंबर के कस्टोडियन कमिटी की बैठक कैपिटल हिल में संपन्न

Nitesh Verma

Leave a Comment