झारखण्ड बोकारो

स्वदेशी जागरण मंच बोकारो द्वारा स्वामी विवेकानंद के जयंती पर युवा उद्यमिता यात्रा निकाली गई

डिजिटल डेस्क

बोकारो (ख़बर आजतक) : स्वदेशी जागरण मंच बोकारो द्वारा स्वामी विवेकानंद के जयंती पर युवा उद्यमिता यात्रा निकाली गई। यात्रा का नेतृत्व मंच के राष्ट्रीय मेला प्रमुख सचिंद्र कुमार बरियार ने किया। यात्रा के दौरान आम जनमानस का सहयोग पूरी तरह से मिला। यात्रा में आम जनमानस स्वत अपने आप जुड़ते चले गए। यह युवा उद्यमिता यात्रा राम मंदिर सेक्टर वन गोलंबर से शुरू होकर विभिन्न सेक्टरों का दौरा करते हुए सेक्टर वन स्थित स्वामी विवेकानंद मंदिर पहुंची और यहां एक आमसभा का आयोजन किया गया। राष्ट्रीय मेल प्रमुख सचिन्द्र कुमार बरियार ने कहा कि आज स्वामी विवेकानंद जी के जयंती पर मंच द्वारा झारखंड के पूरा जिला सहित राष्ट्र के करीबन 15 हजार गांव कस्बे में यह युवा उद्यमिता यात्रा निकल गई है। उन्होंने कहा कि आज पूरा विश्व वृद्ध आयु की कठिनाइयों को झेल रहा है । जिसमें जापान औसतन आयु 49 वर्ष, यूरोप 42,चीन 41,अमेरिका 37 ,बुढ़ापे की तरफ है। जबकि भारत आज युवाओं का देश है किंतु क्या हम इस युवा शक्ति को पुनः भारत के उत्थान के लिए पूरी तरह से लगा दिया है। इसपर गहराई से सोचना होगा। बरियार ने कहा कि इस विषय पर हमें गहराई से सोचना चाहिए। जिसको सामान्य भाषा में जनसंख्यायिक लाभ बोलते हैं। उन्होंने कहा कि इस विषय पर मंथन करते हुए मंच ने राष्ट्रीय व्यापी स्वावलंबी भारत अभियान की शुरुआत की है। वहीं विधायक बीरंची नारायण ने कहा कि स्वामी विवेकानंद की जयंती पूरा देश युवा दिवस के रूप में मनाता है। उन्होंने कहा कि स्वामी जी ने कहा था कि अगर राष्ट्र का युवा सिर्फ एक वर्ष सभी देवी- देवताओं को छोड़ भारत माता की पूजा करने लग जाए ,तो भारत को पुनः उत्थान से कोई नहीं रोक सकता। इस युवा उद्यमिता यात्रा को सफल बनाने में कुमार संजय,अजय चौधरी “दीपक”, नवीन सिन्हा, मनीष श्रीवास्तव, जयशंकर प्रसाद ,सुरेश प्रसाद सिन्हा, अशोक रंजन, प्रेम प्रकाश ,प्रमोद सिन्हा, अवधेश कुमार ,दीपक कुमार व सुजीत कुमार की अहम भूमिका रही।

Related posts

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी चोटिल, सिर में आई गंभीर चोट

Nitesh Verma

PM मोदी ने रांची-पटना सहित पांच वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन का किया शुभारंभ

Nitesh Verma

मणिपुर घटना सरकार एवं प्रशासन के लिए चुल्लू भर पानी में डूब मरने की बात: बंधु तिर्की

Nitesh Verma

Leave a Comment