राँची

हेमंत सरकार ने जनता के भावनाओं के साथ खेलने का काम किया : विजय शंकर

राँची (ख़बर आजतक) : 3 वर्षों के कार्यकाल में हेमंत सोरेन सरकार ने झारखंड समाज के हितों में कार्य करने का प्रयास तो किया मगर वे सफल नहीं हो सके जिसका परिणाम झारखंड के दलित आदिवासी मूलवासी के कसौटी में जितना खरा उतरना था वह नहीं उतर सके । उपरोक्त बातें आज झारखंडी सूचना अधिकार मंच के केंद्रीय अध्यक्ष सह आदिवासी जनाधिकार मंच के केंद्रीय उपाध्यक्ष,पूर्व प्रत्याशी हटिया विधान सभा विजय शंकर नायक ने हेमंत सरकार के 3 वर्ष समाप्त होने पर आज अपनी प्रतिक्रिया में कही । इन्होंने आगे यह भी कहा कि हेमंत सोरेन सरकार में बेरोजगार युवाओं को नौकरी देने के सवाल पर या बेरोजगारी भत्ता देने या फिर खतियान आधारित स्थानीय नीति, नियोजन नीति, आरक्षण, ठेकेदारी में 25 लाख तक के कार्य मे आरक्षण देने के मामलों, महिलाओं को सुरक्षा देने तथा दलित-ओबीसी समाज को सत्ता में भागीदारी सुनिश्चित करने के मामलों में यह सरकार आज तक पूरी तरह से फेल साबित हुई है।
श्री नायक ने यह भी कहा कि हेमंत सरकार झारखंडी जनता के भावनाओं के साथ खेलने का काम किया और फेको राजनीति करने का कार्य कर सरकार ने झारखंड के बुनियादी विषयों पर झारखंड के दलित आदिवासी मूलवासी समाज को बरगलाने का काम किया है । 3 वर्ष सरकार के समाप्त होने एवं चौथे वर्ष की शुरुआत के बावजूद जनता के हितों की रक्षा करने वाले वर्तमान में मृत पड़े महिला आयोग/ मानवाधिकार आयोग /सूचना आयोग/ शिक्षा न्यायाधिकरण आयोग एवं जनहित से जुड़े सभी महत्वपूर्ण निगमों आयोगों का गठन तक नहीं होना राज सरकार के लिए चुल्लू भर पानी में डूब मरने के सम्मान है ।
इन्होंने आशा व्यक्त करते हुए कहा कि हेमंत सोरेन की सरकार भविष्य में किए गए सभी वादों को पूरा करने में सफल हो इसकी झारखंडी सूचना अधिकार मंच एवं आदिवासी मूलवासी जनाधिकार मंच कामना करता है ताकि झारखंड के दलित आदिवासी मूलवासी समाज को इसका संपूर्ण रूप से लाभ मिल सके.

Related posts

खलारी को मिला सौगात, सांसद संजय सेठ का प्रयास रंग लाया

Nitesh Verma

सभी वर्ग की परेशानियों को बढ़ाने वाला केंद्रीय बजट : बंधु

Nitesh Verma

उड़ान योजना के तहत 50 नए हवाई अड्डे खोलने की घोषणा स्वागतयोग्य : प्रवीण छाबड़ा

Nitesh Verma

Leave a Comment