झारखण्ड राँची

सीयूज़े के सुदूर पूर्व भाषा विभाग की दो दिवसीय कार्यशाला का समापन

नितीश_मिश्र

राँची(खबर_आजतक): सीयूजे के सुदूर पूर्व भाषा विभाग तथा सांस्कृतिक स्रोत एवं प्रशिक्षण केंद्र, नई दिल्ली के संयुक्त तत्वावधान में “आजादी के अमृत महोत्सव डिजिटल डिस्ट्रिक्ट रिपॉजिटरी प्रोजेक्ट के अंतर्गत कहानियों का संकलन” विषय पर आयोजित दो दिवसीय कार्यशाला का समापन शुक्रवार को हो गया। इस कार्यशाला में सीयूज़े के विभिन्न विभागों के प्राध्यापक, शोधार्थी एवं छात्रों ने भाग लिया।

इस दौरान सुदूर पूर्व भाषा विभाग के अध्यक्ष डॉ रवीन्द्रनाथ शर्मा की अध्य्क्षता में कार्यशाला का शुभारम्भ हुआ और कार्यशाला के शुभारम्भ सत्र के मुख्य अथिति सांस्कृतिक स्रोत एवं प्रशिक्षण केंद्र, नई दिल्ली के डिप्टी डयरेक्टर राहुल कुमार ने “आजादी के अमृत महोत्सव डिजिटल डिस्ट्रिक्ट रिपॉजिटरी प्रोजेक्ट के अंतर्गत कहानियों का संकलन” विषय पर व्याख्यान देते हुए बताया कि किस तरह से अध्यापक, शोधार्थी और छात्रगण सांस्कृतिक स्रोत एवं प्रशिक्षण केन्द्र से जुड़कर कहानी और कला संकलन का कार्य कर सकते हैं।

इस कार्यशाला के प्रथम दिन सुदूर पूर्व भाषा विभाग के प्राध्यापक शशि कुमार मिश्र, डॉ अर्पणा राज, डॉ कालसँग वांग्मो, मुकेश कुमार जयसवाल एवं सुशांत कुमार ने कला एवं कहानी संकलन के विषय पर अपने विचार रखे।

इस कार्यशाला के पहले दिन लगभग 150 प्रतिभागियों ने भाग लिया।

इस कार्यशाला के दूसरे दिन अजय ठाकुर, कला एवं कहानी संकलन पर विचार व्यक्त किए और बच्चों को अपना ब्यक्तिगत अनुभव साझा किया।

इस कार्यशाला के समापन समारोह में मुख्य अतिथि सरे राहुल कुमार एवं अन्य आमंत्रित वक्ता डॉ सपन रणवीर सिंह ने कार्यशाला में उपस्थित प्रतिभागियों को संबोधित किया।

इस कार्यशाला के आयोजन में सुदूर पूर्व भाषा विभाग के शोधार्थी स्टेंजीन एवं लाडोन एवं चीनी एवं कोरियाई भाषा के छात्रों का अहम योगदान रहा।

Related posts

रक्तदाता जीवन रक्षक के समान होता है : चंदन बांठिया

Nitesh Verma

आंतरिक संसाधनों के बदौलत जातीय गणना करने की दिशा में ठोस पहल करे झारखंड की सरकार: विजय शंकर नायक

Nitesh Verma

31वीं राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस 2023 में डीएवी पब्लिक स्कूल सेक्टर 6 के छात्र -छात्राओं का शानदार प्रदर्शन

Nitesh Verma

Leave a Comment