झारखण्ड राँची राजनीति

सुभाष मुंडा की श्रद्धांजलि सभा में पहुँचे सांसद, राज्य सरकार पर जमकर बरसे सांसद संजय सेठ

मुख्यमंत्री को कहा ‐ “आदिवासी हितों की सिर्फ बातें मत करिए, इनकी सुरक्षा की गारंटी दीजिए”

नितीश_मिश्र

राँची(खबर_आजतक): सांसद संजय सेठ ने कहा कि कहने को झारखंड में आदिवासियों के हितों की सरकार है परंतु धरातल पर सबसे अधिक असुरक्षित इस राज्य में आदिवासी बहन बेटियाँ और आदिवासी नेता ही है। विगत 1 सप्ताह की गतिविधियों को देखें तो ऐसा लगता है, जैसे इस राज्य के आदिवासियों को जान-बूझकर टारगेट किया जा रहा है। विशेष रुप से झारखंड की राजधानी राँची की स्थिति बहुत ही भयावह है। जब राजधानी की स्थिति इतनी भयावह है तो हम सहज कल्पना कर सकते हैं कि पूरे राज्य की स्थिति क्या होगी।

सांसद संजय सेठ शनिवार को युवा आदिवासी नेता सुभाष मुंडा के आवास पर अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करने गए थे। उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करने के बाद सांसद ने कहा कि यह सरकार आदिवासी हितों की रक्षा करने में पूरी तरह से विफल रही है। सांसद ने बताया कि खलारी में एक आदिवासी महिला उर्मिला तिर्की के साथ अवैध संबंध बनाकर उसे ब्लैकमेल किया गया। इस ब्लैक मेलिंग से महिला बहुत परेशान रही। अब उक्त महिला की संदेहास्पद मौत हो गई, जो कई प्रकार के सवाल खड़े करती है। सुभाष मुंडा जैसे युवा नेता को सरेशाम उनके दफ्तर में आकर गोली मारकर हत्या कर दी जाती है। आजसू के एक आदिवासी नेता पर जानलेवा हमला होता है। जब राजधानी का आदिवासी सुरक्षित नहीं है तो सुदूरवर्ती ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले आदिवासियों की क्या स्थिति होगी। यह हम सहज कल्पना कर सकते हैं। राज्य सरकार से मेरी मांग है कि इन तीनों ही मामले में एसआईटी का गठन किया जाए। फास्ट ट्रैक कोर्ट में मामले चलाए जाएँ और दोषियों को अविलंब फांसी की सजा दी जाए।

सांसद ने यह भी कहा कि बेहद दु:खद और दुर्भाग्यपूर्ण है कि एक तरफ मुख्यमंत्री प्रशासन को कार्रवाई करने की खुली छूट देते हैं और दूसरी तरफ ताबड़तोड़ हत्याएं हो रही हैं। गोलियाँ बरस रही है। इससे कई बातें स्पष्ट होती है, जो कहने की जरुरत नहीं है। कहीं न कहीं इस राज्य में अपराधियों को राजनैतिक संरक्षण प्राप्त है। तभी अपराधी इतनी हिम्मत कर पा रहे हैं। संजय सेठ ने मुख्यमंत्री से अनुरोध किया कि आदिवासी हितों की सिर्फ बातें मत करिए। आदिवासियों की जल, जंगल, जमीन, उनकी इज्जत, आबरू, उनकी जान; सब कुछ सुरक्षित रहें, इसके लिए काम करिए।

Related posts

कर्नाटक की जनता ने अपने विकास व बेहतर भविष्य के लिए किया मतदान : आदित्य विक्रम

Nitesh Verma

आजसू का हजारीबाग लोकसभा स्तरीय ग्राम प्रभारी सम्मेलन संपन्न

Nitesh Verma

दर्दनाक मौत : झुंड से बिछड़े हाथी ने वृद्ध को कुचलकर मार डाला, दो अन्य घायल

Nitesh Verma

Leave a Comment